Topics :

सोमवार, अक्तूबर 06, 2014

Home » » lal kitab 1952 page 51

lal kitab 1952 page 51

फरमान नंबर 7 ग्रह व राशि का बाह्मी (आपसे में) ताल्लुक (सम्बन्ध)

मेख(1) बृच्चक(8) मालिक मंगल, तुला(7) बृख(2) शुक्र की है |

कन्या(6) मिथुन(3) का बुध है मालिक, कुंभ(11) मकर(10) दो शनि की हैं |

गुरु मालिक है धनु(9) मीन(12) का, कर्क(4) चन्द्र की होती है |

सिंह(5) अकेला गरजे दुनिया, राशि जो सूरज की है |

केतु गर बैठे कन्या(6) राशी, राहू निवासी मीन(12) का है |

पाप चढ़ा आसमान(12) के ऊपर, जड़ निवासी पाताल(6) में है |



1. ऊंच ग्रह से मुराद पूरी ताकत | आखरी और उत्तम दर्जे की हदबंदी (सीमा निर्धारण) नेक मायनों में |

2. नीच ग्रह से मुराद सबसे नीच या मंदी हालत-आखरी कम दर्जे की हदबंदी मंडे मायनों में |

3. घर का मालिक गृह से मुराद औसत दर्जे की नेक मायनों में | लाल किताब पन्ना नंबर 51


"टिप्स हिन्दी में ब्लॉग" की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त पाएं ! Save as PDF

Share this post :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी मेरे लिए मेरे लिए "अमोल" होंगी | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | अभद्र व बिना नाम वाली टिप्पणी को प्रकाशित नहीं किया जायेगा | इसके साथ ही किसी भी पोस्ट को बहस का विषय न बनाएं | बहस के लिए प्राप्त टिप्पणियाँ हटा दी जाएँगी |